ऐ रात धीरे से आ ज़रा


ऐ रात धीरे से आ ज़रा
रौशन हो रहे हैं माज़ी के सितारे
चाँद भी छिड़क रहा है चांदनी सुहानी
दे रहा है सिसकने के दो चार बहाने

*

ऐ रात धीरे से आ ज़रा
ये महफ़िल आज कुछ अजीब सी है
यादें बिन बुलाये बैठी हैं
और शमा भी बुझी बुझी सी है

*

ऐ रात धीरे से आ ज़रा
आज नींद का कुछ पता नहीं
ये ख़याल बहुत सताते हैं
बाकि तुमसे कोई गिला नहीं

*

ऐ रात धीरे से आ ज़रा
ऐ रात धीरे से आ ज़रा ..

.

.

.

माज़ी- Past

Advertisements

10 thoughts on “ऐ रात धीरे से आ ज़रा

  1. Nice! I am going to be very nitpicky; I hope you do not mind! But my initial qualms still remain. For instance you want the night to come slowly but the moonlight is shining splendidly. Your second line went very well but then the third one confused me!

    Like

What do you think?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s