यह कैफियत है कैसी


dsc03114

अब तो किसी को बताई भी ना जाए
यह कैफियत है कैसी,
यह मुश्किल है कैसी,
कि दर्द में तबस्सुम,
आंसू में ख़ुशी,
मात में भी जीत का जश्न,
मनाता है यह मन..

की उजाले में अँधेरा,
शब में रौशनी,
सुखा कर, फिर आँखों को
रुलाता है यह मन..

यह कैफियत है कैसी,
कि भूले भी नहीं,
वो शाम, वो बातें,
वो चमक, वो मंज़र,
और नए नज़ारों,
नए ठिकानों,
की ओर कदम
बढ़ता है यह मन..

Word meanings: तबस्सुम: smile, कैफियत: condition or state

Advertisements

6 thoughts on “यह कैफियत है कैसी

  1. Ye Kaifiyat hai kaisi,
    ki mansubon ko bhulata hai mann,
    Ye Kaifiyat hai kaisi,
    ki dil ko thukrata hai mann!

    Naye nazaaron, naye thikanon,
    ki taraf toh kadam badh gaye,
    Par jo paaya thha,
    jo bhaaya thha,
    unke falsafon ke liye cheekhta,
    chillata hai mann!

    Like

What do you think?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s